तिहाड़ जेल में कैदियों ने किया हंगामा, लगाए पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे

खोज न्यूज़ टुडे/नई दिल्ली :- तिहाड़ जेल में 18 कश्मीरी कैदियों के साथ मारपीट के मामले में देश विरोधी नारेबाजी होने की बात सामने आई है। सूत्रों का कहना है कि तमिलनाडु स्पेशल पुलिस (टीएसपी) ने हाई सिक्यॉरिटी सेल में बंद इन कैदियों की तलाशी लेने की कोशिश की थी। इसके बाद कैदियों ने टीएसपी के एक अधिकारी को पीटा और हिंदुस्तान मुर्दाबाद और पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे भी लगाए।

अपराधियों केतथाकथित मानवाधिकारों(?) को ज़रूरत से ज्यादा महत्व दिये जाने के चलते ही वे जेल में सज़ा भुगतने के दौरान सुधारने की जगह और बड़े अपराधी बन जाते हैं,

सूत्रों ने बताया कि एक सेल से नारे लगने की आवाजें दूसरे सेल में भी जाने लगीं। ऐसे में वहां भी नारेबाजी होने लगी। तब टीएसपी के जवानों को लगा कि अगर स्थिति पर काबू नहीं पाया गया तो दंगा मच सकता है। टीएसपी ने इस मामले को जेल प्रशासन से भी बताना उचित नहीं समझा और खतरनाक स्थिति होने पर बजाए जाने वाले अलार्म को बजा दिया। प्रोटोकॉल के तहत यह अलार्म जेल के अधिकारी ही बजा सकते हैं।

कैदियों और टीएसपी के बीच हुए इस झगड़े में आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन के चीफ सैयद सलाहुद्दीन का बेटा सैयद शाहिद युसुफ भी घायल हुआ था। वह देशद्रोह के आरोप में जेल में बंद है। जेल के एक अधिकारी ने बताया कि सभी 18 कैदियों को चोट नहीं लगी है। तीन कैदियों की उंगलियों में हेयर लाइन फैक्चर हुए हैं। अधिकारी का कहना है कि सीसीटीवी फुटेज देखकर लगता है कि कैदियों पर उस वक्त बल प्रयोग किया गया, जब उन्होंने तलाशी देने का विरोध किया और नारेबाजी की।

सूत्रों का कहना है कि 21 नवंबर की रात को हुई घटना के दौरान जेल के अंदर एक बार स्थिति बहुत खतरनाक हो गई थी। पता चला है कि विचाराधीन कैदी अपने सेल के अंदर तकियों के कवर ले आए थे। ऐसा करने पर प्रतिबंध है। इसके अलावा उनके पास तंबाकू जैसी कुछ चीजें होने की भी सूचना मिली थी। इसी को देखते हुए तलाशी ली जा रही थी।

इस घटना के बाद अब जेल नंबर-1 के अंदर एक तरह से कर्फ्यू जैसे हालात हो गए हैं। सभी कैदी डरे-सहमे हुए हैं। हालांकि टीएसपी की जिस टीम पर पिटाई करने के आरोप हैं, उसे वहां से हटा दिया गया है। कोर्ट की ओर बनी कमिटी ने इस पूरे मामले की जांच शुरू कर दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *