गुजरात चुनाव के दौरान चार अस्त ग्रह क्या चमत्कार दिखाएंगे?

खोज न्यूज़ टुडे/नई दिल्ली :- गुजरात में 9 और 14 दिसंबर को मतदान है तो 18 दिसंबर 2017 को मतगणना होगी.

चुनाव में समर्थकों और मतदाताओं का कारक ग्रह शनि 4 दिसंबर 2017 से 8 जनवरी 2018 तक अस्त रहेगा, इसके दो परिणाम देखे जा सकते हैं, एक मतदाताओं की सोच और व्यवहार में बदलाव/उदासीनता, और दो जिनके लिए उस वक्त शनि का गोचर लाभदायक है, उसका पूरा-पूरा लाभ नहीं मिलना!

शुक्र ग्रह 29 नवंबर 2017 से ही अस्त है तथा 19 फरवरी 2018, अर्थात 83 दिन अस्त रहेगा, मतलब चुनाव के दौरान ग्लैमर वल्र्ड से जुड़े सितारों और महिलाओं की भूमिका उतनी प्रभावी नहीं रहेगी!

बुध ग्रह 7 से 18 दिसंबर 2017 तक, अर्थात 11 दिन के लिए अस्त है, इसका असर क्या बुद्धिजीवियों और व्यवसायी वर्ग के मतदाताओं पर होगा?

जिस दिन चुनाव के नतीजे आने हैं… 18 दिसंबर 2017 को चन्द्र तारा अस्त है, क्या यह चुनावी नतीजों से मानसिक उथल-पुथल के संकेत दे रहा है? यह इस ओर भी इशारा कर रहा है कि चन्द्रबल का लाभ राशि विशेष को नहीं मिल पाएगा!

इन चारो ग्रहों के अस्त होने का क्या असर रहेगा? इसका विशषण तो चुनाव नतीजे आने के बाद ही बेहतर तरीके से संभव है लेकिन इतना तय है कि जिनके जीवन में ये चार ग्रह कारक है, गोचरवश, दशा-महादशा में अच्छे समय को दर्शा रहे हैं उन्हें नुकसान उठाना पड़ सकता है तो जिनके ये ग्रह अकारक हैं, वे फायदे में रह सकते हैं!

जो हो, इतना तय है कि इन चार अस्त ग्रहों के कारण गुजरात विधानसभा चुनाव की समीकरण गड़बड़ाएगी जरूर!

सबसे दिलचस्प बात यह है कि 18 दिसंबर 2017 को दोपहर 2 बजे से पहले और दोपहर 2 बजे के बाद के चुनाव नतीजों के रूझान में बदलाव नजर आ सकता है!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *